Home > App Ki News > कहीं हिंदुओं के चिता जलाने पर भी प्रदुषण की दुहाई ना देने लग जाएं, पटाखा बैन पर इन्होंने उठाए सवाल

कहीं हिंदुओं के चिता जलाने पर भी प्रदुषण की दुहाई ना देने लग जाएं, पटाखा बैन पर इन्होंने उठाए सवाल

भारत में दिवाली का त्यौहार इस बार 19 अक्टूबर को मनाया जा रहा है। भारत में दिवाली को रोशनी का त्यौहार माना जाता है। इस दिन लगभग पूरे भारत में घरो को रोशनी से जगमग किया जाता है। इसके अलावा इस दिन कुछ राज्यो में पटाखे जलाने का भी चलन है। लेकिन इस बार दिल्ली एनसीआर के लोग शायद पटाखे नही जला (crackers not allowed) पायेगे। इसका कारण है सुप्रीम कोर्ट का एक आदेश। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एनसीआर में एक नवंबर 2017 तक पटाखे बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही दिल्ली एनसीआर में जारी किए गये सभी स्थाई और अस्थाई पटाखे बेचने के लाइसेंस को भी रद्द कर दिया गया है। पटाखे बेचने पर पांबदी एक नवंबर तक रहेगी। इसके बाद फिर से दिल्ली एनसीआर में पटाखो की बिक्री की जा सकेगी।

crackers not allowed

यह भी पढ़े : अब नौकरी बदलने पर अपने आप बदल जायेगा आपका पीएफ खाता, पढ़े नये नियम

हालाकि सुप्रीम कोर्ट ने पटाखे चलाने पर किसी तरह की रोक नही लगाई है। इसका मतलब यह है कि जिन लोगो ने दिवाली के लिए पटाखे खरीद लिए है वह इनका इस्तेमाल बिना किसी रोकटोक के कर पायेगे। हालाकि यह भी स्पष्ट नही है कि दिल्ली के बाहर से पटाखे खरीद कर दिल्ली में लाने पर कोई प्रतिबंध होगा या नही। सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश  (crackers not allowed) दिल्ली में बढते प्रदूषण के स्तर को लेकर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने ने इस आदेश के साथ कहा है कि वह यह देखना चाहते है कि दिवाली पर पटाखो की बिक्री बंद करने से दिल्ली में प्रदूषण के स्तर पर कोई फर्क पडता है या नही। सुप्रीम कोर्ट ने अपने इस आदेश की पालना के लिए दिल्ली पुलिस को भी पांबद किया है कि किसी भी तरह से अवैघ पटाखो की बिक्री ना हो पाये।

यह भी देखे : रणबीर कपूर पहली बार कर रहे अंडरगारमेंट का ऐसा हॉट एड, देखें वायरल इंटिमेट तस्वीरें

आपको बता दे कि 2016 में भी सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एनसीआर में पटाखो की बिक्री पर पांबदी (crackers not allowed) लगाई थी। लेकिन इसे इसी साल सितंबर में हटा लिया गया था। अब फिर से इस पांबदी को लागू कर दिया गया है। अब दिल्ली के लोगो को पटाखे जलाने के लिए काफी दिक्कत का सामना करना पड सकता है। खासकर उन लोगो को जिन्होने अभी तक पटाखे नही खरीदे है। अब उन्हे अपने इस शौक को पूरा करने के लिए कही और से पटाखो का इंतजाम करना पड सकता है।

चेतन भगत ने ऐसे जताया अपना विरोध, देखें वीडियो

 

अब कहीं चिता जलाने पर भी याचिका ना आ जाए

इसी बीच त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राय ने भी पटाखा बैन पर अपनी नाराजगी जाहिर की है। तथागत रॉय ने ट्वीट किया, ”कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है प्रदूषण का हवाला देकर मोमबत्ती और अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओ की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे।

https://duta.in/mobile-pe-news-iframe.php
loading...

About Komal Sharma

कोमल शर्मा अपने नाम की ही तरह स्वभाव से भी सरल हैं। उनकी टीम में उन्हें सॉफ्ट के नाम से जाना जाता है। कोमल ने पत्रकारिता का मास्टर कोर्स किया है। उन्होंने कई प्रतिष्ठित कंपनियों में अपनी सेवाएं दी हैं। अब इंडिया की न्यूज में आकर उन्हें संतोष महसूस होता है। कोमल को एक्शन—कॉमेडी और रोमांटिक मूवीज पसंद हैं। हैडफोन लगाकर गाना सुनना उनकी एक बड़ी कमजोरी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *