Home > Business > अगर पास हुआ मोदी सरकार का यह बिल, लुट सकती है बैंको में आपकी जमा पूंजी

अगर पास हुआ मोदी सरकार का यह बिल, लुट सकती है बैंको में आपकी जमा पूंजी

मोदी सरकार का कार्याकाल अब तक कई चैकाने वाले फैसलो से भरा रहा है। नोटबंदी जैसा बडा और साहसिक फैसला लेकर मोदी सरकार ने सभी को चैका दिया था। और उसके बाद जीएसटी लागू करने का फैसला भी काफी विवादास्पद रहा था। लेकिन अब मोदी सरकार एक ऐसा कानून (Financial regulation frdi bill) लाने जा रही है। जिसका सीधा असर आम आदमी की जिदंगी पर पडना तय है। इस कानून के लागू होने के बाद आपका बैंक में रखा पैसा भी सुरक्षित नही रहेगा। अब तक लोग पैसा रखने की सबसे सुरक्षित जगह बैंक को ही मानते है। क्योकि अभी के कानून के हिसाब से बैंक यदि दिवालिया भी हो जाये तो भी उसे लोगो का जमा पैसा लोटाना पडता है। क्योकि बैंको की गांरटी खूद सरकार की होती है।

Financial regulation frdi bill

खबरो के अनुसार सरकार इस बिल (Financial regulation frdi bill) को संसद के शीतकालीन सत्र में संसद में पेश करने वाली है। संसद के दोनो सदनो में सरकार का बहुमत है इसलिए इस बिल के पास होने की पूरी संभावना बताई जा रही है। लेकिन यदि मोदी सरकार इस कानून को पास करती है। तो लोग शायद बैंको में पैसा रखना ही बंद कर दे। क्योकि इस कानून के लागू होने के बाद बैंको में आपकी एक लाख से ज्यादा रकम सुरक्षित नही रह जायेगी।

क्या है यह बिल
मोदी सरकार इस नये बिल फाइनेंशियल रेजोल्यूशन एंड डिपोॅजिट इन्श्योरेंस बिल (Financial regulation frdi bill) को पास कराने की तैयारी में है। यदि यह बिल पास हो जाता है तो सरकार एक नया रेजोल्यूशन काॅर्पोरेशन बनाएगी। इस काॅर्पोरेशन के बनने के बाद पुराना कानून खत्म हो जायेगा। जिसके तहत बैंको में जमा पैसो पर सरकार की गांरटी होती थी। अब अगर आपका बैंक दिवालिया होता है तो आम आदमी के पैसो का इस्तेमाल बैंक को दुबारा खडा करने के लिए किया जायेगा। मतलब आप अपने एक लाख से अधिक जमा पैसे को नही निकाल पायेगे। आप अपने बैंक में जमा पैसे को कितना और कब निकाल सकते है यह भी सरकार ही तय करेगी। इसका मतलब यह हुआ कि आप अपने एक लाख से अधिक की जमा पूंजी को कुछ सालो के लिए भुल ही जाइये।

फसेगा आम आदमी
किसी भी बैंक के दिवालिया होने में सबसे बडा हाथ लोन का होता है। बैंक बडी कंपनियो को लोन देते है। और यदि यह लोन समय पर वापस नही आए तो बैंक वित्तिय संकट में फंस जाता है। अब तक यह होता था कि ऐसी स्थिति में आम आदमी के पैसे का इस्तेमाल नही होता था। सरकार बैंक को दुबारा खडा करने के लिए कई अन्य विकल्प आजमाती थी। लेकिन अब बडी कंपनियो द्वारा कर्ज ना चुकाना आम आदमी के लिए मुसीबत बन सकता है। क्योकि सरकार बैंक के दिवालिया होने पर आम आदमी की जमा पूंजी का इस्तेमाल बैंक के लिए करेगी।

https://duta.in/mobile-pe-news-iframe.php
loading...

About Komal Sharma

कोमल शर्मा अपने नाम की ही तरह स्वभाव से भी सरल हैं। उनकी टीम में उन्हें सॉफ्ट के नाम से जाना जाता है। कोमल ने पत्रकारिता का मास्टर कोर्स किया है। उन्होंने कई प्रतिष्ठित कंपनियों में अपनी सेवाएं दी हैं। अब इंडिया की न्यूज में आकर उन्हें संतोष महसूस होता है। कोमल को एक्शन—कॉमेडी और रोमांटिक मूवीज पसंद हैं। हैडफोन लगाकर गाना सुनना उनकी एक बड़ी कमजोरी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *