Home > Business > जीएसटी हैल्पलाइन नंबर : यहां पाये अपने जीएसटी संबंधी हर सवाल का जवाब

जीएसटी हैल्पलाइन नंबर : यहां पाये अपने जीएसटी संबंधी हर सवाल का जवाब

जीएसटी एक जुलाई से पूरे देश में लागू होने जा रहा है। इस टैक्स प्रणाली के लागू होने के बाद देश की जनता को अलग-अलग टैक्स भरने से मुक्ति मिल जायेगी। और पूरे देश में एक समान टैक्स सिस्टम लागू हो जायेगा। लेकिन जीएसटी को लेकर अभी तक लोगो में भम्र बाकि है। इस प्रणाली के बारे में लगातार सरकार द्वारा जारी जागरुकता अभियान और मीडिया में आ रही खबरो के बाद भी लोगो में इसे लेकर भम्र का माहौल है। लोगो के इसी परेशानी को दूर करने के लिए सरकार जीएसटी हैल्पलाइन नंबर (GST helpline number ) लेकर आ रही है। 25 जून से जीएसटी का हैल्पलाइन नंबर शूरु हो जायेगा। लोग 0120-4888999 पर काॅल कर जीएसटी संबधी अपनी समस्याओं का समाधान पा सकेगें। इसके अलावा टैक्स अधिकारीयों के सवालो का जवाब देने के लिए भी सरकार ने 0124-4479900 नंबर लांच किया है।

GST helpline number

यह भी देखें : प्रियंका चौपड़ा का अब तक का सबसे बोल्ड सीन, अंग्रेज ने पूरी बॉडी को चूमा

इन दोनो नंबरो (GST helpline number ) पर सरकार द्वारा नियुक्त प्रशिक्षित लोग होगे। जो लोगो के जीएसटी संबधी सवालो के जवाब देगे। अभी इसे औसत पैमाने पर शुरु किया जा रहा है लेकिन सरकार जल्द ही आवश्यक्ता अनुसार इसे बडा बना सकती है। जीएसटी से जुडी एक अन्य खबर के अनुसार अब रेल में यात्रा करना थोडा मंहगा पड सकता है। जीएसटी के लागू होने के बाद रेल की कुछ श्रेणीयों में यात्रा करने वालो को ज्यादा भुगतान करना होगा। जीएसटी के लागू होने के बाद प्रथम श्रेणी और एसी कोच में यात्रा करना मंहगा पड सकता है। जीएसटी में रेलवे टिकट पर सेवा शुल्क को 4.5 प्रतिशत से बढाकर 5 प्रतिशत किया जा रहा है। सेवा कर रेलवे की एसी कोच और प्रथम श्रेणी की टिकट पर लगाता था। इसलिए अब इन कोचो से यात्रा करने पर यात्री को 0.5 प्रतिशत अधिक कर चुकाना होगा।

यह भी पढ़े : टिंडर ऐप अब भारत में भी, लड़कियों से सीधे दोस्ती करवाएगा, ऐसे करें यूज

क्या है जीएसटी
जीएसटी (GST helpline number ) का पूरा नाम गूड्स एंड सर्विस टैक्स ;वस्तु एंव सेवा करद्ध है। इसे भारत सरकार 1 जुलाई से पूरे देश में लागू करने वाली है। जीएसटी का मुख्य लक्ष्य पूरे देश में एक सामान कर व्यवस्था लागू करना है। यह कर वर्तमान में लागू सभी अप्रत्यक्ष करो जैसे की केंद्रीय उत्पाद शुल्कए सेवा करए वैटए मनोरंजन करए विलासिता कर आदि को समाप्त कर एक ही कर व्यवस्था लागू करेगा। इसके लागू होने के बाद देश के नागरिको को अलग अलग कर भरने से मुक्ति मिलेगी। और वह केवल इस एक टैक्स का भुगतान कर देश का सहयोग कर सकेगे। इस कर प्रणाली में सभी वस्तुओ और सेवाओं को अलग.अलग टैक्स स्लैब में रखा गया है। सबसे कम टैक्स 5 प्रतिशत है और सबसे ज्यादा टैक्स 28 प्रतिशत है।

https://duta.in/mobile-pe-news-iframe.php
loading...

About Komal Sharma

कोमल शर्मा अपने नाम की ही तरह स्वभाव से भी सरल हैं। उनकी टीम में उन्हें सॉफ्ट के नाम से जाना जाता है। कोमल ने पत्रकारिता का मास्टर कोर्स किया है। उन्होंने कई प्रतिष्ठित कंपनियों में अपनी सेवाएं दी हैं। अब इंडिया की न्यूज में आकर उन्हें संतोष महसूस होता है। कोमल को एक्शन—कॉमेडी और रोमांटिक मूवीज पसंद हैं। हैडफोन लगाकर गाना सुनना उनकी एक बड़ी कमजोरी है।

Check Also

GST on Gold

क्या पुराने सोने, ज्वैलरी एवं वाहनों को बेचने पर नहीं लगेगा जीएसटी, यहां जानें

नई दिल्ली। अगर आप जीएसटी के चलते पुराने व्हीकल्स एवं गहने, सोना बेचने में असमंजस …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *