Home > Business > अभी और बेचा जा सकेगा पुरानी MRP पर सामान, सरकार ने बढ़ाई समय सीमा

अभी और बेचा जा सकेगा पुरानी MRP पर सामान, सरकार ने बढ़ाई समय सीमा

जीएसटी को लागू हुए तीन महीने होने को है। इसका अर्थव्यवस्था पर असर दिखना शुरु भी हो गया है। हालाकि इसका अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड रहा हैए इसका विश्लेषण अभी विवाद का विषय है। लेकिन व्यापार जगत मे इसका प्रभाव साफ दिखाई देने लगा है। जीएसटी के लागू होने के साथ ही सरकार ने नई कीमतो ;हेज दमू उतचद्ध पर माल बेचने के लिए कंपनियो को तीन माह का समय दिया था। गौरतलब है कि GST के बाद सभी सामानो की कीमतो में परिवर्तन हुआ है। ऐसे में उस समय जो प्रोडेक्ट बाजार में थे। उनकी कीमतो में परिवर्तन संभव नही था। जिसके चलते सरकार ने पूरानी एमआरपी पर सामान बेचने की अनुमति दी थी। लेकिन पूराने माल को खत्म करने के लिए सरकार ने तीन महीनो का समय दिया था। लेकिन अब खबर आ रही है कि सरकार ने इस समय सीमा को बढा (GST MRP date extended) दिया है।

GST mrp date extended

निधि अग्रवाल हैं बॉलीवुड की नई हॉट गर्ल, देखें फोटोज और वीडियो

सरकार ने ने पूरानी एमआरपी पर सामान बेचने की समय सीमा को बढाकर 31 दिसंबर (GST mrp date extended) कर दिया है। बताया जा रहा है कि कई कंपनिया और व्यापारिक संगठन इस समय सीमा को बढाने की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि जीएसटी से पहले के प्रोडेक्टस का इनके पास काफी भंडार है। ऐसे में इस माल को पूराने मूल्य पर बेचे जाने के लिए दी गई समय सीमा कम है। इसे बढाया जाए। हालाकि सितंबर की अंतिम तारीख तक यही कहा जा रहा था कि सरकार इस समय सीमा को बढाने के मूड में नही है। लेकिन अब लगता है कि सरकार ने व्यापारियो को नाराज ना करते हुए उनकी बात मान ली है। और उन्हे राहत देते हुए अपने पूराने माल को बेचने के लिए 3 माह का समय और दे दिया है। अब लोगो को नइ्र्र एमआरपी पर सामान 1 जनवरी 2018 से (GST mrp date extended) ही मिल सकेगा।

 

यह भी पढ़े : अब नौकरी बदलने पर अपने आप बदल जायेगा आपका पीएफ खाता, पढ़े नये नियम

वही दूसरी तरफ इस तरह की शिकायते भी आ रही है कि नई एमआरपी ;हेज दमू उतचद्ध में कुछ कंपनियो ने अपने प्रोडेक्ट की कीमतो में काफी वृद्वि कर दी है। जिसके चलते आम आदमी को परेशानी होना लगभग तय है। और इससे मंहगाई का बढना भी तय है। लेकिन इसी बीच कुछ कंपनिया ऐसी भी है जिन्होने अपनी नई एमआरपी में सामान की कीमतो में कमी की है। गौरतलब है कि सरकार ने जीएसटी के अन्तर्गत सभी वस्तुओ और सेवाओ को चार कर स्लैब के अन्तर्गत रखा है। इसलिए अब सभी प्रोडेक्ट्स की कीमतो मे बदलाव होना तय है।

loading...

About Komal Sharma

कोमल शर्मा अपने नाम की ही तरह स्वभाव से भी सरल हैं। उनकी टीम में उन्हें सॉफ्ट के नाम से जाना जाता है। कोमल ने पत्रकारिता का मास्टर कोर्स किया है। उन्होंने कई प्रतिष्ठित कंपनियों में अपनी सेवाएं दी हैं। अब इंडिया की न्यूज में आकर उन्हें संतोष महसूस होता है। कोमल को एक्शन—कॉमेडी और रोमांटिक मूवीज पसंद हैं। हैडफोन लगाकर गाना सुनना उनकी एक बड़ी कमजोरी है।

Check Also

GST India

अब इन चीजों पर नहीं देना होगा जीएसटी बिल, इन राज्यों में नहीं लगता जीएसटी टैक्स

जीएसटी लागू होने के बाद से ही इसमें सुधार का दौर भी जारी है। हालाकि …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *