Home > App Ki News > जीएसटी को लेकर फैली गलतफहमियां, सरकार ने दिए जवाब, यहां देखें

जीएसटी को लेकर फैली गलतफहमियां, सरकार ने दिए जवाब, यहां देखें

नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी 1 जुलाई से देशभर में लागू हो चुका है। जीएसटी में पांच टैक्स स्लैब 0, 5, 12, 18 और 28 फिसदी रखे गए है। ऐसे में जीएसटी को लेकर लोगो में कुछ भ्रम (मिथ) फैले हुए है जिन्हें राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने दूर कर दिया। अधिया ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के जरिए लोगों के बीच फैली गलतफहमियां एवं मिथकों (GST myths and reality) को दूर किया।

GST myths and reality
GST myths and reality twitted by Dr Hasmukh Adhia 

 

मिथ 1: सभी बिल कंप्यूटर या इंटरनेट से बनाना जरूरी होगा।
वास्तविकता: नहीं, बिल मैन्यूअली भी बनाए जा सकते है।

मिथ 2: जीएसटी के तहत बिजनेस करने के लिए क्या पूरे समय इंटरनेट आवश्यक होगा।
वास्तविकता: जी नहीं, इंटरनेट की आवश्यकता सिर्फ मासिक जीएसटी रिटर्न भरने के लिए होगी।

मिथ 3: मेरे पास प्रोविजनल आईडी है लेकिन फाइनल आईडी का इंतजार कर रहा हूं।
वास्तविकता : आईडी ही आपका फाइनल जीएसटीआईएन नंबर है। आप बिजनेस शुरू कर सकते है।

मिथ 4: मेरे बिजनेस से रिलेटेड वस्तुएं पहले टैक्स के दायरे से बाहर थी। यानी उन पर टैक्स नहीं लगता था। इसलिए क्या अब कारोबार स्टार्ट करने से पहले रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा।

वास्तविकता: आपने अपने बिजनेस को जारी रख सकते हैं और 30 दिनों के भीतर रजिस्ट्रेशन करवा लें।

मिथ 5: क्या एक महीनें में 3 बार टैक्स भरना होगा।
वास्तविकता: तीन हिस्सों वाला एक ही रिटर्न है। जिसमें फर्स्ट पार्ट बिजनेसमैन भरेगा जबकि दो अन्य पार्ट कंप्यूटर से ऑटोमैटिक हो जाएगे।

मिथ 6: क्या छोटे डीलर्स को रिटेल व्याापार में रिटर्न भरते समय हर बिल के हिसाब से इन्फॉर्मेशन देनी होगी। वास्तविकता: जो लोग खुदरा व्यापार में हैं, उन्हें कुल ब्रिकी का सार भरने की आवश्यकता होगा।

मिथ 7: जीएसटी दरें पहले के भी वैट से अधिक है।
वास्तविकता: यह इसलिए ज्यादा दिखाई दे रहा है क्योंकि पहले एक्साइज ड्यूटी और दूसरे कर दिखाई
नहीं देते थे। जीएसटी लागू होने के बाद सब करों को इसमें मिला दिया गया है जो आपको नजर आ रहा है।

 

पढ़ें और खबरें:

एक बार​ फिर हिन्दी फिल्मों में नजर आएगी बाहुबली— देवसेना, यहां जानिए

प्यार करने वालों को प्राइवेट कमरा देगी यहां की सरकार, जानें क्या होगी सुविधाएं और चार्ज

बिना कपड़ों के ऑटो में दिखे रणबीर-कैटरीना, मूवी सीन था या असली तस्वीर

https://duta.in/mobile-pe-news-iframe.php
loading...

About Dimpy Sharma

डिम्पी शर्मा को शुरू से ही मीडिया इंडस्ट्री में जाने का चाव था, हालांकि केवल शौकिया तौर पर। डिम्पी डॉक्टर बनना चाहती थी,लेकिन ऐसा वह कर नहीं पाई और उनका रूझान फिर से मीडिया की ओर हो गया। डिम्पी को लेखन के अलावा, मूवीज, क्रिकेट, डेकोरेशन, बुक रि​डिंग और शेरो—ओ—शायरी का शौक है। खाली समय में वह फेसबुक पर चैटिंग और व्हाट्सएप पर वीडियो देखना पसंद करती है।

Check Also

GST on Gold

क्या पुराने सोने, ज्वैलरी एवं वाहनों को बेचने पर नहीं लगेगा जीएसटी, यहां जानें

नई दिल्ली। अगर आप जीएसटी के चलते पुराने व्हीकल्स एवं गहने, सोना बेचने में असमंजस …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *