Home > App Ki News > क्या प्रसाद, भंडारे एवं लंगर पर लगेगा जीएसटी, पढि़ए पूरी खबर

क्या प्रसाद, भंडारे एवं लंगर पर लगेगा जीएसटी, पढि़ए पूरी खबर

नई दिल्ली। जीएसटी 1 जुलाई से देशभर में लागू हो गया। ऐसे में बीते दिनों खबरें थी धार्मिक स्थानों पर मुफ्त भोजन भी जीएसटी के दायरे में आ गया है यानी मंदिरों में प्रसाद, भंडारे, गुरूद्वारे में लंगर आदि पर जीएसटी लगेगा। खबरों में कहा गया था कि जीएसटी के बाद लंगर, प्रसाद आदि का खर्च बढ़ जाएगा। वहीं अब GST on Prasad की इन खबरों पर वित्त मंत्रालय ने विराम लगा दिया है।

GST on Prasad
GST on Prasad

 

मंत्रालय ने साफ कर दिया कि धार्मिक संस्थानों द्वारा चलाए गए फूड कोर्ट में मुफ्त भोजन की व्यवस्था को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि धार्मिक संस्थानों एव तीर्थ स्थलों की ओर से मुुफ्त भोजन पर जीएसटी नहीं लगेगा। मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरूद्वारा पर दिए जाने वाले प्रसाद, भंडारे, लंगर को जीएसटी से बाहर रखा गया है। हालांकि मंत्रालय ने कहा कि प्रसाद बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाले रॉ मेटेरियल और उनसे जुड़ी सेवाओं पर जीएसटी लगेगा।

बड़े एक्टर की बहू ने कहा: खाना खाने के बजाय सेक्स करना पसंद करूंगी, देखें वीडियो

यानी चीनी, वनस्पति तेल, घी, मक्खन, आदि वस्तुओं की ढुलाई पर टैक्स लगेगा। मंत्रालय का कहना है कि इन सामानों का इस्तेमाल कई तरीके से होता है। ऐसे में यह तय करना मुश्किल है कि इनका इस्तेमाल प्रसाद के लिए किया जा रहा है या फिर घरों एवं होटल्स आदि में। ऐसे में इनके लिए अलग दर नहीं रखी जा सकती। मंत्रालय के अनुसार, यह जानना आवश्यक है कि जीएसटी अलग.अलग स्तर पर कर लगाने की व्यवस्था यानी मल्टी स्टेज टैक्स हैए ऐसे में इस्तेमाल के आधार पर टैक्स से छूट देना बेहद ही मुश्किल है।

इस महीने रिलीज होने वाली खास फिल्में, जानिए स्टार-कास्ट, रिलीज डेट

जीएसटी में किसी भी सामान या सेवा के अंतिम इस्तेमाल के आधार पर छूट देने का प्रावधान नहीं है। गौरतलब है कि 1 जुलाई से जम्मू-कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में एक देश एक कर प्रणाली जीएसटी लागू हो गई। जीएसटी के बाद कुछ सामानों की कीमतों में बढ़ोत्तरी हुई जबकि कुछ के दाम घटे है। वहीं खुला आटा, बेसन, दही, दूध आदि को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है।

क्रिस गेल के साथ ऐसा डांस कर आप कमा सकते है पांच हजार अमेरिकी डॉलर

https://duta.in/mobile-pe-news-iframe.php
loading...

About Dimpy Sharma

डिम्पी शर्मा को शुरू से ही मीडिया इंडस्ट्री में जाने का चाव था, हालांकि केवल शौकिया तौर पर। डिम्पी डॉक्टर बनना चाहती थी,लेकिन ऐसा वह कर नहीं पाई और उनका रूझान फिर से मीडिया की ओर हो गया। डिम्पी को लेखन के अलावा, मूवीज, क्रिकेट, डेकोरेशन, बुक रि​डिंग और शेरो—ओ—शायरी का शौक है। खाली समय में वह फेसबुक पर चैटिंग और व्हाट्सएप पर वीडियो देखना पसंद करती है।

Check Also

GST on Gold

क्या पुराने सोने, ज्वैलरी एवं वाहनों को बेचने पर नहीं लगेगा जीएसटी, यहां जानें

नई दिल्ली। अगर आप जीएसटी के चलते पुराने व्हीकल्स एवं गहने, सोना बेचने में असमंजस …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *