Home > App Ki News > सातवें वेतन आयोग के बाद अब प्राइवेट कर्मचारियों की बारी, इतनी होगी न्यूनतम मजदूरी

सातवें वेतन आयोग के बाद अब प्राइवेट कर्मचारियों की बारी, इतनी होगी न्यूनतम मजदूरी

सातवें वेतन आयोग से सरकारी कर्मचारियों की सैलेरी इतनी बढ़ गई है कि प्राइवेट कर्मचारी सालों पीछे चले गए हैं। पर चिंता की कोई बात नहीं, अब प्राइवेट कंपनियों, दुकानों, प्रतिष्ठानों में काम करने वालों की सैलेरी भी बढ़ने वाली है। सबकुछ सही रहा तो प्राइवेट कर्मचारियों की न्यूनतम मजदूरी (Minimum Salary) 10000 रुपए होने वाली है।

minimum wages
सही पढ़ रहे हैं आप, सरकार ने इसका खाका तैयार कर लिया है। श्रम मंत्रालय ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। सरकारी भाषा में कांट्रेक्ट वर्कर्स के लिए दिए जाने वाला न्यूनतम वेतन कहा जा रहा है। यानि कि संविदा पर काम करने वाले अंशकालिक कर्मचारी। फिलहाल संविदा कर्मचारियों को करीब 6000 रुपए दिए जाते हैं, ये सरकारी आंकलन है। न्यूनतम मजदूरी एक्ट 1948 में करीब 45 सेवाओं को न्यूनतम मजदूरी के दायरे में लिया है। इनमें प्राइवेट और सरकारी काम के लिए नियुक्त कर्मचारी शामिल हैं। द हिन्दू की रिपोर्ट के अनुसार श्रम मंत्रालय ने न्यूनतम मजदूरी को बढ़ाने के लिए कांट्रेक्ट लेबर रेग्यूलेशन एंड अबोलिशन सेंट्रल रूल्स 1971  (Contract Labour (Regulation and Abolition) Central Rules, 1971) में बदलाव के लिए ड्राफ्ट तैयार किया है। इसी ड्राफ्ट में न्यूनतम मजदूरी को कम से कम 10000 रुपए करने का प्रस्ताव है।

आप केवल यह नहीं समझें कि ये बदलाव केवल ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों के लिए होगा। अगर आप भी प्राइवेट सेक्टर में कर्मचारी हैं और कम वेतन मिल रहा है तो आप भी इसके दायरे में आते हैं। इसे इस तरह से समझा जा सकता है कि वर्तमान मे अधिकांश कंपनियां अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए नौकरी कांट्रेक्ट बेस पर देती हैं। कई बार इसकी जानकारी कर्मचारी को दी जाती है और कई बार उससे छिपा लिया जाता है। ऐसा करने की वजह कर्मचारियों के प्रति कंपनी की जिम्मेदारी और उनके भविष्य में संभावित दावों से बचने के लिए किया जाता है।

Web Title: Minimum Salary for private and contract workers to be Rs 10000

loading...

About Dimpy Sharma

डिम्पी शर्मा को शुरू से ही मीडिया इंडस्ट्री में जाने का चाव था, हालांकि केवल शौकिया तौर पर। डिम्पी डॉक्टर बनना चाहती थी,लेकिन ऐसा वह कर नहीं पाई और उनका रूझान फिर से मीडिया की ओर हो गया। डिम्पी को लेखन के अलावा, मूवीज, क्रिकेट, डेकोरेशन, बुक रि​डिंग और शेरो—ओ—शायरी का शौक है। खाली समय में वह फेसबुक पर चैटिंग और व्हाट्सएप पर वीडियो देखना पसंद करती है।

Check Also

7th pay allowance

सातवां वेतन आयोग अलाउंस: शहर और सेवा के हिसाब से जानिए कितना फायदा हुआ आपको

नई दिल्ली। केन्द्रीय कर्मचारियों का आखिरकार लंबा इंतजार खत्म हो गया। तीन देशों की यात्रा …

One comment

  1. भानु प्रताप शुक्ला

    हम एक pvt ltd कंपनी में ड्राइवर है हमारी शैलरी 10000 है लेकिन pf आदि जो सेवाएं अन्य कम्पनियाँ दे रही है उससे हमें वंचित रखा गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *