X

इन महिलाओं को पुलिस ने भिखारी समझ पकडा, हकीकत जान कर उडे होश,जाने पूरी कहानी

कहा जाता है कि कभी कभी आंखो का देखा भी गलत हो सकता है। हम जो देखते है और जो समझते है, कई बार हकीकत उससे उलट हो सकती है। ऐसा ही कुछ वाकंया हाल ही में हैदराबाद में हुआ। यहां पर पुलिस ने भिखारी समझ दो महिलाओ को पकडा। लेकिन इनकी हकीकत जान कर पुलिस भी हैरान हो गयी। ये दोनो ही महिलाएं करोडो की मालिक (rich beggar) निकली। यह वाकया आजकल काफी सुर्खीया बटोर रहा है। दरअसल यह सब तब हुआ जब अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप की बेटी इवांका के हैदारबाद दौरे के चलते पुलिस भिखारीयो को पकड रही थी।

यह भी देखें : सुष्मिता सेन ने कॉलेज स्टूडेंट्स के साथ किया ऐसा डांस, देखकर आप भी हो जायेगें हैरान

आपको बता दे कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका जल्द ही हैदराबाद दौरा करने वाली है। जिसके चलते पुलिस पाॅश इलाके से भिखारियो को हटा कर जैल और रिहैबिलिटेशन सेंटर भेज रही थी। इस दौरान पुलिस ने कुछ महिलाओं को भी पकडा। लेकिन इनमें से दो महिलाओ की हकीकत जान कर पुलिस भी चैंक पडी। पकडी गई महिलाओं में से एक महिला पुलिस से अग्रेजी में बात करने लगी। इस महिला ने अपना नाम फर्जोना बताया। उसने पुलिस को बताया की वह बिजनेस स्टडीज में पोस्ट ग्रेजुएट है और अमेरिका में भी काम कर चुकी है। यही नही इस महिला का बेटा भी अमेरिका में सेटल है। इस महिला ने बताया कि हैदराबाद में एक पाॅश इलाके में उसका अपना अपार्टमेंट भी है। पति की मौत के बाद यह महिला मानसिक रुप से कमजोर हो गई थी। और एक बाबा के कहने पर भीख मांग रही थी। पुलिस ने जब उसके बेटे से संपर्क किया तो पता चला की वह भी अपनी मां की तलाश में भारत आया हुआ है। पुलिस ने कागजी कार्यवाही के बाद इस महिला (rich beggar) के उसके बेटे को सौप दिया।

यह भी देखें : अपनी इच्छाएं पूरी करने के लिए किस तरह जवान लड़को को फसाती है अमीर महिलाएं, देखें वीडियो

इसी तरह एक दूसरी महिला (rich beggar) की कहानी भी बडी दिलचस्प निकली। इस महिला को जब जैल लाया गया तो वह पुलिस वालो पर बरस पडी। इस महिला के अनुसार वह ग्रीन कार्ड होल्डर है। और हैदराबाद में ही उसके पास काफी बडी सम्पती है। उसके अनुसार उसके भाइयों ने उसे जमीन जायदाद से नाजायज रुप से बेदखल कर दिया। जिसके बाद वह अपना मानसिक संतुलन खो बेठी। और शांति की तलाश में यहां आकर भीख मांगने लगी। इस महिला को भी पुलिस ने उसके परिवार वालो को सौप दिया। इन दोनो ही वाकंयो से यह बात स्पष्ट हो गई कि कई बार हम जिसे गरीब या भिखारी समझ हेय नजरो से देखते है। जरुरी नही कि वह वैसा ही हो।

Leave a Comment